Daily Hindi Thought (Quote, SMS) of Day on Goodness/Evil अच्छाई/बुराई



अच्छाई और बुराई दोनो हर इन्सान के अन्दर समाई हुई है. इस लिए हम न सदा किसी को अच्छाई के लिए प्यार कर सकते है और न ही सदा किसी से बुराई के लिए नफरत. अरविन्द कटोच


"Both good and evil resides within same person. So neither we can always love someone for his goodness, nor always hate anyone for evil. - Arvind Katoch"

Comments