Hindi Thought (Man's reputation is like a shadow/मनुष्य की प्रतिष्ठा उसकी छाया की भांति है)

Hindi Thought, Man's, reputation, shadow, man,
Hindi Thought (Man's reputation is like a shadow)


"मनुष्य की प्रतिष्ठा उसकी छाया की भांति है।  जब वह मनुष्य के आगे चलती है तो बहुत बड़ी हो जाती है पर जब यह पीछे चलती है तो बहुत छोटी हो जाती है।    अज्ञात"

"Man's reputation is like a shadow. When the shadow is moving ahead of man, then it becomes very big, however, when it moves behind, then it becomes very small.  Unknown."

Hindi Thought of the Day

The bird sitting on the tree's branch/पेड़ की शाखा पर बैठा पंछी (Hindi Thought)

"पेड़ की शाखा पर बैठा पंछी कभी भी डाल हिलने से नहीं घबराता क्योंकि पंछी डाली पर नही अपने पंखों पर भरोसा करता है।"  Hindi Though...

Popular Posts