Skip to main content

Posts

Showing posts from January 31, 2011

Hindi Thought (SMS) on Regret/ पछतावे

अगर हम अपने जीवन को पिछले कल के पछतावे से और आने वाले कल की चिंता से
भर लेते है, तो हमारे पास शुक्रिया करने के लिए आज नहीं रहेगा.



If you fill your heart with regrets of yesterday and worries of tomorrow, you will have no today to be thankful for.